लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी क्या है और यह कैसे काम करती है?

Spread the Knowledge

लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी क्या है और यह कैसे काम करती है? ?

लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी (Long Call Options Strategy) एक निवेशक को यह शर्त लगाने का मौका देते हैं कि अंतर्निहित स्टॉक मूल्य में वृद्धि करेगा या स्ट्राइक मूल्य से ऊपर रहेगा। यह दो कॉल विकल्प अनुबंध के प्रकारों में से एक है। लॉन्ग कॉल ऑप्शन की रणनीति व्यापारियों को स्टॉक के मालिक के साथ (जिसने भी स्टॉक ख़रीदा है) जुड़े सभी जोखिमों के बिना लाभ प्राप्त करने की अनुमति देती है। क्युकी कॉल स्टॉक से कम महँगी होती हैं, एक व्यापारी कॉल ऑप्शन  (Buying Call Options Strategy) लेके अधिक स्टॉक का लाभ उठा सकता है, जितना कि वे स्टॉक के साथ नहीं कर सकते हैं क्युकी स्टॉक्स का मूल्य ज्यादा होता है।

व्यापारी को हमेशा आउट-ऑफ-द-मनी शॉर्ट-कॉल खरीदते समय सावधान रहना चाहिए। एक नए व्यापारियों के लिए ये आकर्षक हो सकते हैं क्योंकि वे खरीदने के लिए सस्ते होते हैं, लेकिन अक्सर वहा पर नुकसान की संभावना ज्यादा होती है । याद रखें, एक कॉल विकल्प का जीवन काल अपेक्षाकृत सीमित है क्योंकि जोखिम है कि स्टॉक किसी भी लाभ को बनाने के लिए उस समय में स्ट्राइक मूल्य से ऊपर नहीं बढ़ेगा, और तब तक विकल्प समय के क्षय के साथ जायेगा।

ऊपर दिए गए चार्ट में, कॉल विकल्प (Call Option) के धारक तब तक अपनी लागत में कटौती करना शुरू नहीं करते हैं, जब तक कि स्टॉक की कीमत स्ट्राइक मूल्य तक नहीं पहुंचती है, जो बिंदु A द्वारा दिखाया गया है। वे तब स्टॉक प्रॉफिट शुरू करते हैं जब कॉल के लिए भुगतान किए गए प्रीमियम से स्टॉक स्ट्राइक मूल्य अधिक राशि के बराबर होने लगता है।

Angle Broking Account opening

लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी कैसे काम करती हैं?

एक निवेशक जो कॉल विकल्प  (Call Options) खरीदता है, उनके पास स्ट्राइक मूल्य पर स्टॉक खरीदने का अधिकार होता है, जब तक कि विकल्प अनुबंध समाप्त नहीं हो जाता। ज्यादातर मामलों में, एक विकल्प अनुबंध कॉल विकल्प धारक को स्टॉक के १०० शेयर खरीदने का अधिकार देता है। जैसा कि अगर अंतर्निहित परिसंपत्ति का मूल्य बढ़ने लगता है तो कॉल विकल्प खरीद सकते है। कॉल विकल्प (Call Option) के धारक या तो अनुबंध का उपयोग कर सकते हैं और स्टॉक की डिलीवरी ले सकते हैं या समाप्ति तिथि से पहले कॉल विकल्प को बेच सकते हैं।

कॉल विकल्प (Call Options) खरीदने के लिए, खरीदार को एक प्रीमियम का भुगतान करना होगा, जो पूर्व निर्धारित मूल्य पर स्टॉक खरीदने के अधिकार के लिए भुगतान की गई कीमत का प्रतिनिधित्व करता है। स्टॉक के विपरीत, जो मूल्य में गिरावट और निवेशक के लिए संचित घाटे को बनाए रख सकता है, एक कॉल विकल्प के खरीदार केवल प्रीमियम खो सकते हैं, चाहे वे स्टॉक में कितनी भी गिरावट आए।

यदि स्टॉक की कीमत समाप्ति पर स्ट्राइक मूल्य से ऊपर है, तो लाभ या हानि की गणना स्टॉक मूल्य को ले कर की जाती है और फिर स्ट्राइक मूल्य और भुगतान किए गए प्रीमियम को घटाकर, फिर नियंत्रित शेयरों की संख्या से गुणा किया जाता है।

लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी (Long Call Options Strategy) में लाभ और नुकसान :

  • अधिकतम नुकसान = शुद्ध प्रीमियम भुगतान
  • एक लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी के लिए अधिकतम लाभ असीमित है क्योंकि स्टॉक अधिक से अधिक मूल्य प्राप्त करना जारी रख सकता है।

लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी (Long Call Options Strategy) में ब्रेक–ईवन बिंदु :

  • स्ट्राइक प्राइस से प्रीमियम को जोड़कर लॉन्ग कॉल ऑप्शन (Call Options Strategy) पर ब्रेक की गणना की जाती है।
  • यदि कोई शेयर ₹ १०० का कारोबार कर रहा है और एक निवेशक ११०  स्ट्राइक प्राइस कॉल को ₹ २  के लिए खरीदना चाहता है, तो उसका ब्रेक इवन ₹ ११२ इतना होगा।
  •  

 

लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी (Long Call Options Strategy) के उदाहरण :

चलिए लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी (Long Call Options Strategy) को एक उदाहरण के साथ समझते है।

यदि टाटा मोटर्स का स्टॉक ₹ ९० प्रति शेयर पर कारोबार कर रहा है, तो एक निवेशक केवल ₹ ९ में  ९०  स्ट्राइक प्राइस कॉल विकल्प  (Option) खरीद सकता है। क्योंकि एक अनुबंध ९० शेयरों को नियंत्रित करता है, इस विकल्प के लिए निवेशक जिस कीमत का भुगतान करेगा वह ₹ ९००  (₹९  X ₹ १०० = ₹ ९०० ) है। 

अभी इसमें ऐसा है की यदि अंतर्निहित निवेशक इस लेनदेन से कोई लाभ उठाना चाहते हैं तो अंतर्निहित स्टॉक कम से कम ₹ ९ तक और स्ट्राइक प्राइस ₹ ९०  के निशान से ऊपर चढ़ जाना चाहिए । प्रत्येक रुपये के लिए स्टॉक स्ट्राइक प्राइस जैसे ऊपर उठता है (पहले ₹ ९ के बाद) वैसे निवेशक को इस विकल्प से ₹ ९० का लाभ होगा, और अगर शेयर उच्च स्तर पर जारी रहता है, तो यह एक वास्तविक पैसा बनाने वाला रास्ता हो सकता है।

इसके विपरीत, यदि स्टॉक ₹ ९००  प्रति शेयर पर रहता है, जैसे ग्राफ A  पर दिखाया गया है, या स्ट्राइक प्राइस से कम है, तो विकल्प बेकार हो जाएगा, जिसके परिणामस्वरूप निवेशक को ₹ ९ का नुकसान होगा, जो उनके निवेश का १०० % है।

Zerodha

निष्कर्ष :

लॉन्ग कॉल ऑप्शन स्ट्रेटेजी एक निवेश अभ्यास है जो निवेशक को स्टॉक की वृद्धि पर दांव लगाने की अनुमति देता है। निवेशक को गलत होने पर पूरे प्रीमियम के संभावित नुकसान को संभालने में सक्षम होना चाहिए। स्टॉक के मालिक की तुलना में एक व्यापारी कॉल स्वामित्व के माध्यम से बहुत अधिक कमा सकता है, लेकिन खोने का जोखिम भी बहुत अधिक होता है।

यदि आप  पुट ऑप्शन (PUT OPTION) के बारे में जानना चाहते है तो यहाँ क्लिक करेPUT OPTIONS BASICS

Visit our website – www.eazeetraders.com ! Join our You tube Channel – EAZEETRADERS


Spread the Knowledge

Eazeetraders

I am trying to write Stock Market and Investments-related articles in simple language. I believe good content empowers people to unleash their wealth-creation potential, and I am happy if I can contribute to it.

This Post Has 3 Comments

Comments are closed.